Bhojpuri Industry का घिनौना सच, Unprofessional और अश्लील बन कर रह गई है भोजपुरी

Bhojpuri Industry

Bhojpuri Industry का घिनौना सच, Unprofessional और अश्लील बन कर रह गई है भोजपुरी

Trisakar Madhu New Video Viral
  1. क्या आपने कभी सोचा है कि पंकज त्रिपाठी, मनोज बाजपेयी जैसे कलाकार जो अच्छी भोजपुरी बोल लेते हैं, बॉलीवुड में जिनका डंका बजता है। फिर भी इन जैसे स्टार्स ने कभी भोजपुरी फिल्मों में काम क्यों नहीं किया?

क्या आपने सोचा है कि प्रियंका चोपड़ा जो हॉलीवुड में भी अपना जलवा बिखेर रही हैं, एक्ट्रेस के साथ साथ प्रोड्यूसर भी हैं? एक भोजपुरी फिल्म बनाकर वह पीछे क्यों हट गई? प्रकाश झा जैसे डायरेक्टर जिन्होंने कई बॉलीवुड फिल्में बनाई हैं, जिनका बहुत बड़ा नाम है। लेकिन एक भी भोजपुरी फिल्म उन्होंने डायरेक्ट क्यों नहीं की? ऐसे बहुत सारे सवाल हैं जो मेरे साथ साथ आपके मन में भी कई बार उठते होंगे।

अगर आप इन सवालों पर गौर करेंगे तो इनका एक सबसे बड़ा कारण जो सामने आएगा, वह यह है कि Bhojpuri Industry बहुत ही अनप्रोफेशनल है। किसी भी भोजपुरी स्टार का नाम बताइए? पवन सिंह, खेसारी लाल यादव या कोई भी जो खुद को भोजपुरी इंडस्ट्री का दिग्गज समझता ना तो अच्छी एक्टिंग कर पाते हैं और ना ही उनकी डायलॉग डिलिवरी अच्छी होती है।

इसके पीछे की वजह साफ है। भोजपुरी के ज्यादातर कलाकार इन्होंने ना तो कभी एक्टिंग की पढ़ाई की है और ना ही कहीं इन्होंने एक्टिंग सीखी है। थिएटर जहां से निकलने के बाद लोग सही मायने में एक्टर बनते हैं, उससे इस इंडस्ट्री का दूर दूर तक कोई नाता नहीं।

Shilpi Raj 4 कारणों से शिल्पी राज का करियर हो रहा है खत्म

Bhojpuri फिल्मों में अगर आपको एक्टर बनना है तो एक चीज जानी चाहिए वो है गाना गाना, एक्टिंगअगर आपको भी नहीं पता और आप गाना गाते हैं तो आप हीरो बन जाएंगे। मनोज तिवारी भी ऐसे हीरो बने दिनेश लाल यादव ऐसे हीरो बने। पवन सिंह ऐसे हीरो बने। हां, इस लिस्ट में रवि किशन का नाम हटा दीजिए। Bhojpuri Industry में शायद मेरी नजर में एकलौते ऐसे हीरो हैं, जिन्हें एक्टिंग आती है, जो बॉलीवुड से लेकर साउथ तक की फिल्मों में समय समय पर दिखते रहे हैं।

ये बात हुई Bhojpuri Industry के हीरो की। अगर हीरोइन्स की बात करें तो और भी बुरा हाल है। जब कोई लड़की हिरोइन बनने की चाह लेकर Bhojpuri Industry में आती है तो उसकी एक्टिंग नहीं देखी जाती।

देखा जाता है कि क्या ये लड़की डांस कर लेगी, ये एक्सपोज कितना कर पाएगी जिससे फिल्म को फायदा हो। महिला सेंट्रिक फिल्में तो बनती ही नहीं है। Bhojpuri Industry में तो महिलाओं के लिए एक्टिंग का ज्यादा स्कोप भी नहीं मिलता। सबसे दुख की बात यह है कि कोई हीरोइन इसका विरोध भी नहीं करती, क्योंकि उन्हें डर लगता है कि अगर वह लड़कियों के हक की बात करेंगी तो यह अपने लिए स्टैंड लेंगी तो उन्हें काम मिलना बंद हो जाएगा।

Bhojpuri Comedy Video: आनंद मोहन बने बेशर्म ससुर Latest Bhojpuri News

मुझे पर्सनली ऐसा लगता है कि Bhojpuri Industry में हीरो के मुकाबले हीरोइन ज्यादा टैलेंटेड हैं, लेकिन उनके टैलेंट का इस्तेमाल ही नहीं किया जाता। इंडस्ट्री में एंट्री के साथ ही लड़कियां किसी न किसी बड़े हीरो के गुट में शामिल हो जाती हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे उनका करियर उड़ान भरेगा। अक्षरा सिंह का नाम ले लीजिए

तो यह बात हुई भोजपुरी के हीरो हीरोइन की। अब बात अगर शिप के कैप्टन यानी डायेक्टर की करें तो इनकी क्या समस्या है, यह खुद ही जानें। साउथ से लेकर बॉलीवुड जहां पर फिल्मों को एक्टर के साथ साथ डायरेक्टर के नाम से भी जाना जाता है। वहीं भोजपुरी में एकाध डायरेक्टर को छोड़ दें तो शायद ही किसी डायरेक्टर का नाम आपको पता होगा।

इसके पीछे की वजह साफ है। इतनी पुरानी इंडस्ट्री होने के बावजूद फिल्मों का प्लॉट एक जैसा होता है। ना तो कहानी में नयापन है, न ही ग्राफिक्स में कुछ अद्भुत देखने को मिलता है और न ही कोई नए प्रयोग किए जाते हैं। हिंदुस्तान का रीजनल सिनेमा नेशनल से ग्लोबल हो रहा है।

साउथ की फिल्में सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी अपना खूब प्यार और पैसा कमा रही। अब तो ऑस्कर में साउथ की फिल्म धूम मचा रही है। इसे देखने के बाद भोजपुरी के डायरेक्टर्स को थोड़ी शर्म करनी चाहिए।

शायद भला हो जाए क्योंकि जब तमिल तेलगू इंडस्ट्री में मारधाड़ और अतिश्योक्ति से भरी फिल्में बनती थी तब नदिया के पार जैसी फिल्में आई भी थी, जिसका न सिर्फ देश और बल्कि विदेशों में भी खूब सराहना हुई थी।

आज भी नदिया के पार फिल्म को लोग खूब प्यार देते हैं, उससे गाने सुनते हैं। लेकिन इसके बाद यहां से यह होना चाहिए था कि यहां से भोजपुरी फिल्मों को उड़ान भरनी चाहिए थी। लेकिन अब भी भोजपुरी फिल्में अपनी पहचान बनाने में नाकाम रहीं।

Bhojpuri Video त्रिसाकार मधु के बाद इस एक्ट्रेस का वीडियो हुआ वायरल

इसके पीछे की वजह डायरेक्टर हैं, जो आउट ऑफ द बॉक्स सोचते ही नहीं, बस स्टार्स के हिसाब से फिल्में बनाते हैं। अब यह बात भोजपुरी के डायरेक्टर ही समझे कि उन्हें किस बात का डर है। आखिर वह ऐसा क्यों नहीं करते हैं। प्रोड्यूसर भी भोजपुरी इंडस्ट्री को इस मुकाम तक पहुंचाने के लिए उतने ही दोषी हैं, जितने बाकी के लोग।

प्रोड्यूसर्स को एक बात क्यों नहीं समझ में आती कि जब तक भोजपुरी सिनेमा देखा नहीं जाएगा, अच्छी फिल्में नहीं बनेंगी, उनकी कमाई। नहीं बढ़ेगी ये छोटी सी बात। न जाने क्यों प्रोड्यूसर को अब तक समझ नहीं आई है। बिहार, झारखंड, यूपी के अलावा पूरे भारत में भोजपुरी को बोलने और सुनने वाले लोग हैं।

साथ ही विदेशों में भी बहुत बड़ा भोजपुरी समाज है। कई देशों में तो भोजपुरी आधिकारिक भाषा भी है। पूरे विश्व में भोजपुरी बोलने वालों की संख्या 5 करोड़ से ज्यादा है। फिजी मॉरीशस में भोजपुरी आधिकारिक भाषा है। भोजपुरी भाषा का विस्तार इतना बड़ा है, फिर भी Bhojpuri Industry अपनी इमेज बिल्डिंग में काफी पीछे छूट गई है,

क्योंकि यहां पर आपसी झगड़े इतने हैं कि वो सड़कों तक आ जाते हैं। स्टेज से एक दूसरे को धमकी देते हैं और फेसबुक पर यहां के जो एक्टर हैं वह लाइव आकर एक दूसरे को गरियाना शुरू कर देते हैं कई बार तो हद तब हो जाती है जब शराब के नशे में एक दूसरे को भला बुरा कहते हैं।

भोजपुरी के गाने सुन लीजिए। एक दूसरे को जाति को टारगेट करके गाना गाते हैं। कुछ पॉपुलर गाने के नाम मैं आपको बताता हूं।

  1. चोली भूमिहार रंगी है
  2. पांडे जी का बेटा हूं। चुम्मा चिपक के लेता हूं
  3. यादव जी के चौकी फलाफल

क्या आपने हाल फिलहाल में कोई ऐसी भोजपुरी फिल्म देखी है जिसकी कहानी अलग हो? ग्राफिक्स के मामले में बढ़िया काम किया गया हो। हां, ऐसी एकाध फिल्में हो सकती हैं, लेकिन ऐसी फिल्में चलती नहीं हैं। बढ़िया फिल्म बनाने की बजाय इस इंडस्ट्री के स्टार आपको मसाला देने में जुटे हुए हैं।

दो फिल्मों में हीरो हीरोइन अगर साथ काम कर लेते हैं तो तुरंत उनका अफेयर हो जाता है और अफेयर खत्म होता है। फिर एक दूसरे खिलाफ अनर्गल गाना शुरू कर देते हैं। कई हीरोइन के तो अश्लील एमएमएस लीक हो गए हैं। अभी हाल ही में भोजपुरी एक्ट्रेस तृषा मधु का एक कथित एमएमएस सामने आया था।

Trisha kar madhu :- तृषाकर मधु सोशल का बढ़ाई सोशल मीडिया का पारा !

इसके बाद एक और भोजपुरी सिंगर का एमएमएस सामने आया था। कई स्टार तो आए दिन स्टेज से ही अश्लील डायलॉग बोलते नजर आते हैं। ऐसे में सवाल ये है कि क्या ये स्टार भोजपुरी को सम्मान दे रहे हैं या फिर उसका अपमान कर रहे हैं। जैसे हर इंडस्ट्री के फिल्मों की चर्चा होती है,

क्या कभी भोजपुरी फिल्मों की भी चर्चा हो पाएगी? कब ऐसा होगा कि भोजपुरी बोलने वाले भी अपनी इंडस्ट्री की बात करने में असहज महसूस नहीं करेंगे? ये सवाल है जिनके जवाब मिलना बाकी है। ले

किन गलती सिर्फ इंडस्ट्री की नहीं है, उसे देखने और सुनने वालों की है। अच्छे कंटेंट की डिमांड होगी तो शायद आने वाले सालों में भोजपुरी इंडस्ट्री अच्छी फिल्में बननी लगेंगी।

Akansha Dubey Latest News

और जब ऐसा होगा तो यकीन मानिए फिर शायद कोई भोजपुरी एक्ट्रेस सुसाइड नहीं करेगी। लोग जब भोजपुरी का नाम सुनेंगे तो उनके जेहन में सबसे पहले छठ का गाना आएगा। भिखारी ठाकुर, गायत्री ठाकुर और भरत शर्मा के गाने आएंगे ना किए अश्लील गाने आएंगे। बाकी इसके बारे में आप क्या सोचते हैं? अपनी राय हमें बताइए और तमाम अपडेट्स के लिए आप देखते रहिए Bhojpuri Jila।

Bhojpuri Industry

इसे भी पढ़िए

गोरखपुर में फ़िल्म कृष्णा की शूटिंग में व्यस्त हैं विमल पाण्डेय निर्देशक पराग पाटिल के साथ

आम्रपाली दुबे की म्यूज़िकल फ़िल्म माँ भवानी से फिर से फ़िल्मी जगत में धमाका करने आ रहे हैं अभय सिन्हा , पंकज तिवारी व रजनीश मिश्रा

Ritesh Pandey भ्रष्टाचार को उज़ागर करने में रितेश पाण्डेय के छूटेंगे पसीने । शूटिंग के पहले ही फ़र्स्ट लुक हुआ वायरल

Leave a ReplyCancel reply